पेट में जलन है तो इस तरह दूर करे | Hyperacidity

No comments
पेट में जलन है तो इस तरह दूर करे

पेट में जलन (Hyperacidity) एक ऐसी समस्या है जो आपको कभी भी अपनी गिरफ्त में ले सकती  है।
पेट में जलन हो जाये तो ऐसा लगता है जैसे कि सारे शरीर को ही आग में रख दिया गया हो।

पेट में जलन का समाधान


1. केला पेट की जलन (Hyperacidity) का समाधान है 


पेट में जलन ज्यादा हो तो पका केला इसका सबसे अच्छा समाधान सिद्ध हो सकता है।

केले के अन्दर पोटेशियम ज्यादा होता है जो अपने क्षारीय गुण के कारण अतिरिक्त एसिड (Hyperacidity) को उदासीन करता है।

इसके अतिरिक्त केले के अन्दर म्युकस भी बहुत ज्यादा होता है जिस कारण से पेट में मौजूद अतिरिक्त एसिड इस म्यूकस को पाचन करने में खपत हो जाता है और पेट की जलन (Hyperacidity) से तुरन्त आराम मिलता है।

इसके अतिरिक्त केले में मौजूद प्रचुर फाइबर सम्पूर्ण आहार नलिका को साफ करके पाचन तंत्र को मजबूत करने का भी काम करता है। बस ध्यान रखें कि केला कच्चा ना हो ठीक से पका हुआ हो।

2. पेट में जलन (Hyperacidity) है  तो ठण्डा दूध पिए 


उबालकर ठण्डा किया गया दूध पेट की जलन (Hyperacidity) का जैसे रामबाण इलाज है।
दूध की प्रकृति ठण्डी होती है जिस करण से यह शरीर में पित्त के उपद्रवों को समाप्त करता है।

पेट में जलन (Hyperacidity) भी पित्त दोष के बढ़ने के कारण ही होती है जिस कारण दूध प्राकृतिक रूप से पेट की इस जलन का समुचित समाधान देता है।

इसके अतिरिक्त दूध में कैल्शियम अच्छी मात्रा में पाया जाता है। कैल्शियम आमाशय में मौजूद अतिरिक्त एसिड का अवशोषण कर लेता है जिस कारण से पेट की जलन (Hyperacidity) से राहत मिलती है।

तो अगली बार यदि आपके पेट में जलन (Hyperacidity) हो तो एक बार उबालकर ठण्डा किया गया दूध जरूर पीकर देखना।

3. पेट में जलन (Hyperacidity) का समाधान है गुनगुना पानी और बेकिंग सोडा 


पेट की जलन (Hyperacidity) होने पर एक गिलास गुनगुने पानी में एक ग्राम बेकिंग सोडा ( खाने का सोडा ) मिलाकर पीने से बहुत जल्दी आराम मिलता है।

गुनगुना गरम पानी आमाशय में मौजूद एसिड की सान्द्रता को कम कम करता है खाने का सोडा एसिड को उदासीन कर देता है जिस कारण से पेट की जलन (Hyperacidity) से अच्छा आराम मिलता है।

यहॉ ध्यान देने वाली बात है कि खाने का सोडा कितनी मात्रा में लिया जाये। एक दिन में अधिकतम एक या दो ग्राम ही खाने का सोडा सेवन करना चाहिये।

ज्यादा सेवन करने से यह पित्त के प्राकृतिक कामों को भी रोक देगा जिस कारण से पाचन प्रक्रिया अवरुद्ध हो जायेगी।

इसलिये पेट की जलन में दिन में एक बार ही खाने का सोडा एक ग्राम की मात्रा में प्रयोग करना पर्याप्त होता है।

पेट की जलन (Hyperacidity) की समस्या बहुत ज्यादा हो तो आठ घण्टे के बाद यह प्रयोग दोहराया जा सकता है किन्तु एक दिन में उससे ज्यादा नही।

4. पेट में जलन (Hyperacidity) का समाधान है नारियल पानी और कच्चे गोले की गिरी 


नारियल पानी शरीर को ताजगी देने और पित्त के प्रकोप को कम करने के लिये सबसे अच्छे प्राकृतिक साधनों में से एक है। इसका शीत गुण और पोटेशियम खनिज पेट के एसिड को कम करने में बहुत लाभकारी होता है।

खास बात यह है कि इसको इच्छानुसार कितनी भी मात्रा में पिया जा सकता है। इसके अतिरिक्त कच्चे नारियल की गिरी भी पेट की जलन (Hyperacidity) को खत्म करने में बहुत लाभकारी सिद्ध होती है।

यदि रोज 50-100 ग्राम कच्चे नारियल की गिरी खायी जाये तो पेट की जलन होती ही नही है ऐसा कुछ डाईट विशेषज्ञों का मानना है।

पेट की जलन (Hyperacidity) के लिये इस लेख में प्रकाशित आयुर्वेद क्लीनिक, मेरठ के सौजन्य से दिये गये ये प्रयोग हमारी समझ में पूरी तरह से हानिरहित हैं।

फिर भी आपके आयुर्वेदिक चिकित्सक के समुचित परामर्श के बाद ही इन प्रयोगों को करने की हम आपको सलाह देते हैं । याद रखिये आपके चिकित्सक की सलाह का कोई विकल्प नही होता है।

पेट की जलन (Hyperacidity) के लिये दिया गया यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा।

आपके एक शेयर से किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँच सकती है और हमको भी आपके लिये और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है।

इस लेख से सम्बंधित आपके कुछ सुझाव हों तो कृपया कमेण्ट करके हमें जरूर बताइयेगा।

No comments :

Post a Comment